www.yuvasamvad.org

CURRENT ISSUE | ARCHIVE | SUBSCRIBE | ADVERTISE | CONTACT

सम्पादकीय एवं प्रबन्ध कार्यालय

167 ए/जी.एच-2

पश्चिम विहार, नई दिल्ली-110063

फोन - + 91-11-25272799

ई-मेल – ysamvad[~at] gmail.com

मुख्य पृष्ठ  *  पिछले संस्करण  *  परिचय  *  संपादक की पसंद

सदस्यता लें  *  आपके सुझाव

मुख्य पृष्ठ  *  पिछले संस्करण  *  परिचय  *  संपादक की पसंद  *  सदस्यता लें  *  आपके सुझाव

युवा संवाद की सदस्यता के लिए सहयोग राशि

 

वार्षिक  : 200 रुपये (व्यक्तिगत)   : 240 रुपये (संगठनों के लिए)

पांच वर्ष : 800 रुपये

दस वर्ष : 1500 रुपये

आजीवन : 2000 रुपये

विदेश में  : 100 अमेरिकी डॉलर (पांच साल के लिए)

 

अंक के प्रमुख आकर्षण

मार्च 2016

संपादकीय

अपना-अपना राष्ट्रवाद

युवा संवाद - मार्च 2016 अंक में प्रकाशित

 

पटियाला हाउस में दिल्ली पुलिस कमिश्नर बी एस बस्सी ने कन्हैया, उसके वकीलों व जेएनयू के टीचर्स की सुरक्षा की गारंटी ली थी लेकिन दिल्ली पुलिस कमिश्नर की गारंटी या जमानत पूरी तरह से असफल हुई। जवाहर लाल नेहरु विश्व विद्यालय छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार की पिटाई तो हुई ही साथ में पत्रकारों की भी पिटाई हो गई। माननीय उच्चतम न्यायलय द्वारा पटियाला हाउस भेजी गई टीम पर भी पानी की बोतल, पत्थर फेंके गए तथा पाकिस्तानी दलाल कहकर नारेबाजी की गई और दिल्ली पुलिस मूक दर्शक भूमिका के अतिरिक्त कुछ नहीं बनी।

 

आगे पढ़े...

यह जो बिहार है: गंगा: बदहाली की कहानी — योगेंद्र

रोहित वेमुला: दलित चेतना के आयाम — अरुण कुमार त्रिपाठी

रोहित वेमुला: राष्ट्रवादी दहशत के आगे — अपूर्वानंद

रोहित वेमुला: सरहदों के पार रोहित वेमुला — अभिनव श्रीवास्तव

रोहित वेमुला: आत्महत्या और समाज का... — सुरजीत कुमार सिंह

रोहित वेमुला: हिंदुत्व राजनीति और दलित... — राम पुनियानी

रोहित वेमुला: दलित मरता है तो यह.... — महेश कुमार

रोहित वेमुला: अनेक सवालों की घिरी मौत — कुमार नरेंद्र सिंह

रोहित वेमुला: राष्ट्रद्रोही या भारत माता का... — चिन्मय मिश्र

रोहित वेमुला: आत्महत्या के मायने क्या हैं? — दयानंद कनकदंडे

रोहित वेमुला भाजपा के गले का फंदा — आनंद तेलतुंबड़े

दस्तावेज: दलित प्रश्न और भगतसिंह — मुद्राराक्षस

चिंतन: डाॅ. लोहिया का स्त्रीवादी.... — मधु

असहिष्णुता: घुटन भरा माहौल है.... — मंगलेश डबराल

सांप्रदायिकता: सांप्रदायिकता के बीज — शैलेंद्र चैहान

प्रकृति: असहिष्णुता का फैलता दायरा — ओ.पी. जोशी

आर.एस.एस.: आर.एस.एस. की शक्ति का..... — रमेश ओझा

बुंदेलखण्ड: गहरा है सूखाग्रस्त गांवों... — भारत डोगरा

वैकल्पिक परिवहन: आॅड और ईवन से आगे — राजेंद्र रवि

कविता: जि़न्दाँ की एक सुबह — फ़ैज़ अहमद फ़ैज