www.yuvasamvad.org

CURRENT ISSUE | ARCHIVE | SUBSCRIBE | ADVERTISE | CONTACT

सम्पादकीय एवं प्रबन्ध कार्यालय

167 ए/जी.एच-2

पश्चिम विहार, नई दिल्ली-110063

फोन - + 91-11-25272799

ई-मेल – ysamvad[~at] gmail.com

मुख्य पृष्ठ  *  पिछले संस्करण  *  परिचय  *  संपादक की पसंद

सदस्यता लें  *  आपके सुझाव

मुख्य पृष्ठ  *  पिछले संस्करण  *  परिचय  *  संपादक की पसंद  *  सदस्यता लें  *  आपके सुझाव

युवा संवाद की सदस्यता के लिए सहयोग राशि वार्षिक : 300 रुपये (व्यक्तिगत) : 360 रुपये (संगठनों के लिए) पांच वर्ष : 1200 रुपये दस वर्ष : 2000 रुपये आजीवन : 3000 रुपये विदेश में : 200 अमेरिकी डॉलर (पांच साल के लिए)
अंक के प्रमुख आकर्षण
जुलाई 2018
संपादकीय

फिर गर्त में कश्मीर

युवा संवाद - जुलाई 2018 अंक में प्रकाशित

 

‘कश्मीर पर बल द्वारा नहीं, केवल पुण्य द्वारा ही विजय पाई जा सकती है। यहां के निवासी केवल परलोक से भयभीत होते हैं, न कि शस्त्रधारियों से।’ बारहवीं शताब्दी के मध्य में प्रसिद्ध कश्मीरी कवि एवं इतिहासकार कल्हण द्वारा रचित संस्कृत ग्रंथ ‘राजतरंगिणी’ में कही गई बात कश्मीर की ताजा स्थिति के संदर्भ में भी पूरी तरह प्रासंगिक है...

 

आगे पढ़े...

यह जो बिहार है : शंबूक और सीता की पुनः परीक्षा — डॉ. योगेंद्र

बलात्कार : पितृसत्तात्मक शक्ति.सरंचना का.... — सुजाता

जम्मू.कश्मीर : फिरकापरस्तों का नहीं है मेरा.... — दीपिका सिंह राजावत

मोदी सरकार के 4 साल : दक्षिण पंथ की कीलें — जावेद अनीस

कट्टरपंथ : वापस बर्बरता की ओर — आनंद तेलतुम्बड़े

सहिष्णुता : वे हममें नफरत भर देना चाहते हैं — प्रकाश राज

संघ, भारत, लोकतंत्र : कौन जीतेगा इस लंबे... — अरुण कुमार त्रिपाठी

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ : राष्ट्र, राष्ट्रवाद और देशभक्ति — सौरभ बाजपेयी

अध्ययन रिपोर्ट : कहानी पाचगांव की — डॉ. मुकेश कुमार

विभेदीकरण : लोकतंत्र का नया संस्सकरण — उपासना गौतम

फेक न्यूज़ : भीड़ में तब्दील होता समाज — असद शेख

बेबाक : ना कोई दाव चला ना धौंस चली — सहीराम