www.yuvasamvad.org

CURRENT ISSUE | ARCHIVE | SUBSCRIBE | ADVERTISE | CONTACT

सम्पादकीय एवं प्रबन्ध कार्यालय

167 ए/जी.एच-2

पश्चिम विहार, नई दिल्ली-110063

फोन - + 91-11-25272799

ई-मेल – ysamvad[~at] gmail.com

मुख्य पृष्ठ  *  पिछले संस्करण  *  परिचय  *  संपादक की पसंद

सदस्यता लें  *  आपके सुझाव

मुख्य पृष्ठ  *  पिछले संस्करण  *  परिचय  *  संपादक की पसंद  *  सदस्यता लें  *  आपके सुझाव

युवा संवाद की सदस्यता के लिए सहयोग राशि

 

वार्षिक  : 200 रुपये (व्यक्तिगत)   : 240 रुपये (संगठनों के लिए)

पांच वर्ष : 800 रुपये

दस वर्ष : 1500 रुपये

आजीवन : 2000 रुपये

विदेश में  : 100 अमेरिकी डॉलर (पांच साल के लिए)

 

अंक के प्रमुख आकर्षण

अगस्त 2016

संपादकीय

सेना नहीं है कश्मीर समस्या का हल

युवा संवाद - अगस्त 2016 अंक में प्रकाशित

 

जम्मू और कश्मीर के 40 वर्ष तक शांतिपूर्ण समाधान के प्रस्ताव के विफल हो जाने पर 1989-90 में सशत्र विरोध शुरू हुआ था। सशत्र प्रतिरोध 2007-08 तक क्षीण हो गया था और उस का स्थान बड़े जनांदोलनों ने लिया था। सशस्त्र प्रतिरोध के पतन को एक नए जन आंदोलन की राजनीति के रूप में देखने की बजाए इसे “आंदोलानात्मक आतंकवाद” का नाम दे दिया गया। ...

 

आगे पढ़े...

यह जो बिहार है: गंदी राजनीति से बाहर निकलें — योगेंद्र

चिंतन : भारतमाता ! — कुमार प्रशांत

कश्मीर : यह ‘वो’ कश्मीर तो नहीं — अशोक कुमार पाण्डेय

जल : पानी बचाने की सकारात्मक पहल — श्रीपाद धर्माधिकारी

जल : पानी को सुखाती आधुनिक तकनीक — कुलभूषण उपमन्यु

सार्वजनिक उपक्रम : निजी कंपनियों पर ..... — किशनगिरि गोस्वामी

अर्थव्यवस्था : बैंकों की गिरती सेहत — सुधीश कुमार पटेल

टेलीविजन : मानवीय रिश्ते : एक उत्पाद डॉ. अर्चना रानी

सभ्यता संकट : बढ़ती असमानता .... — ब्लादिमीर पोपोद एवं

                                                     जोमो क्वामे सुंदरम

नशा : नशे में उड़ता पंजाब — चिन्मय मिश्र

नशाबंदी : शराब को नकारता बिहार — कुमार कृष्णन

वन सम्पदा : क्यों बेकाबू हो जाती हैं जंगल ... — विनोद पाण्डे

सामयिक : दलित दर्द के राजनैतिक इलाज — मोहनदास नैमिशराय

कृषि : निराशा के बीच आशा के बीज — बाबा मायाराम

भूदान : लूट जमीन की — विवेकानंद माथने

युवा संवाद अभियान : नए समाज निर्माण की चुनौतियां

बेबाक : उनकी याद तो बहुत आएगी — सहीराम